आज हमारी जिंदगी इतनी व्यस्त हो चुकी है की हमें अपने लिए कुछ करने की फुर्सत ही नहीं है. जी हाँ हम पैसे के लिए इतने पागल हो गये है की हमारा सबसे बड़ा धन हमारी काया को हम सही से रख ही नहीं पाते हैं. एक कहावत है की पैसा कमाने के चक्कर में, अपने पास की दौलत भी लुटा आये हैं!! खैर आज स्थिति ऐसी बदल गई है की एक समय था जब गर्भवती महिला की डिलीवरी नार्मल हुआ करती थी और अपने भारत में यह रेसियो 99 प्रतिशत था पर आज बदले जमाने के साथ इतने उपकरण भी आ गये एंव उनके बावजूद आज हर एक गर्भवती महिला को यह सोचना पड़ता है की क्या ? वह अपने बच्चे को सही तरीके से जन्म दे पाएगी. जी हाँ यह सवाल हर एक गर्भवती महिला के दिमाग में रहता हैं क्योंकि आज के समय में सिजिरियन डिलीवरी सबसे ज्यादा होती है. 

नोर्मल प्रसव के लिए महिला क्या करें 

गर्भवती महिला अगर चाहती है की उसका प्रसव नार्मल तरीके से हो और उसे डॉक्टरों की पद्दति का सामना ना करना पड़े तो वह गर्भवस्था में यह व्यायाम करके अपने आने वाले जीवन को सुधार सकती है, आइये जानते है की गर्भवती महिला को कौनसे व्यायाम करने चाहिए जिनकी मदद से नार्मल प्रसव होने के चांस बढ़ते हो.

एक-आधा घंटा टहलना आवश्यक है 

अगर गर्भवती महिला घर का काम रोजाना करती है तो इसका मतलब यह नहीं की वह टहल रही है. उसे एक घंटा अपने स्वास्थ्य के लिए निकालना चाहिए, ताकि वह बच्चे को जन्म सही तरीके एंव नार्मल तरीके से करवा पायें. इसके लिए उसे एक घंटा टहलने के लिए निकालना चाहिए और पार्क इत्यादि में टहलना चाहिए. 

मेडिटेशन करें 

अगर कोई गर्भवती महिला रोजाना मेडिटेशन करती है तो उसका स्वास्थ्य अच्छा रहता है और अगर वह सवास्थ है तो सिजिरियन डिलीवरी के चांस बहुत कम होते है और अधिकतर प्रसव नोर्मल होते है. इसलिए गर्भवती महिला को योग एंव मेडिटेशन करना चाहिए. 

नार्मल प्राणायाम करें 

हम व्यायाम का कह रहे है पर आपको किसी भी तरह का आसन इत्यादि नहीं करना है. आप व्यायाम में प्राणायामः कर सकती है. इससे आपके शरीर को कष्ट कम होगा और आपके आने वाले समय के लिए यह बहुत जरूरी है. आप अपनी दिनचर्या में टहलना एंव अच्छा भोजन शामिल करें. नार्मल डिलीवरी के लिए अच्छा भोजन एंव टहलना बहुत जरूरी है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here